अनुसूचित जनजाति महासभा
अनुसूचित जनजाति महासभा

पूर्व सूचना दिनाँक 10/08/2021 के अनुसार दिनांक 21/08/2021 को होने वाली बैठक दिनाँक 15/08/2021 दिन रविवार को ग्राम सकवाह (केवलारी टोला) विकास खंड-मंडला में अनुसूचित जनजाति महासभा,मध्यप्रदेश के तत्वाधान में सामाजिक पंचायत संपन्न हुई, जिसमें ग्राम खुड़िया (रसैयादौना) निवासी बालकृष्ण परते एवं उनकी पत्नी संतकला परते के बीच उत्पन्न मनमुटाव एवं पारिवारिक विवाद के चलते पिछले एक वर्ष से अलग-अलग रह रहे थे । उनकी पत्नी मायके में रह रही थी । उनके दो बच्चे हैं, एक चार साल एवं दूसरा दो साल के हैं ।

      पति एवं पत्नी के बीच इस मनमुटाव एवं विवाद का कारण लड़का एवं लड़की दोनों पक्ष के पंच गण एवं अनुसूचित जनजाति महासभा,मध्यप्रदेश के पदाधिकारी गण जानकर तत्काल दूर करने हेतु समझाईस दी गई । दो से तीन घंटे के सामाजिक पंचायत में पति- पत्नी तथा उनके माता-पिता के विभिन्न प्रकार के सवालों का समाधान किया गया । बैठक के अंत में पुनः साथ रहने हेतु पति एवं पत्नी की इच्छा पूछा गया । दोनों गांव के पंचों एवं महासभा के समक्ष आपसी सहमति से पति – पत्नी एक साथ रहने हेतु सहमति जाहिर की ।  पति एवं पत्नी दोनों एक-दूसरे को पानी पिलाकर मनमुटाव को दूर किये । साथ ही बालकृष्ण परते ने अपनी पत्नी संतकला परते को साथ लेकर आये । पंचों और महासभा के पदाधिकारियों ने यह भी समझाया कि भविष्य में उन दोनों के बीच इस तरह की कोई समस्या न आए, उन्हें अपना जीवन अच्छे से जीना चाहिए और बच्चों की अच्छी देखभाल करनी चाहिए।

          महासभा द्वारा यह कहा गया कि आज आप दोनों पंचों एवं महासभा की बात मानकर एक साथ पुनः रहने की बात मानकर पंचो के मान-मर्यादा बनाये रखे । इस कारण अनुसूचित जनजाति महासभा आपके संरक्षक के रूप में हमेशा सुख-दुःख में साथ देगा ।

इस सामाजिक पंचायत में गाँव खुड़िया के पंचगण–तिरुमाल मनीराम भलावी, भीखम लाल कुंजाम, रूपलाल परते, हरदूलाल कुड़ापे, मातवर वरकड़े, संबंधित बालकृष्ण परते एवं उनकी माँ शांति बाई तथा सकवाह (केवलारी टोला) से बालकृष्ण परते की पत्नी एवं उनकी माता-पिता एवं पंचगण उपस्थित रहे । साथ ही अनुसूचित जनजाति महासभा, मध्यप्रदेश के पदाधिकारी गण- तिरुमाल गुलाबसिंह मरदरिया (संरक्षक-महासभा) मंगलसिंह करचाम (प्रदेश अध्यक्ष-महासभा) बचनसिंह मरावी (प्रदेश सचिव-महासभा), गजराज मरावी (प्रांतीय प्रकोष्ठ अध्यक्ष- अधिकारी एवं कर्मचारी) एवं सुरजीत परते  (प्रांतीय प्रकोष्ठ अध्यक्ष-सेवानिवृत अधिकारी एवं कर्मचारी) महेश प्रसाद बर्मे (जिला अध्यक्ष मंडला-महासभा) एवं राजेंद्र परते (जिला उपाध्यक्ष मंडला-महासभा) भी उपस्थित रहे ।


वीर योद्धा बाबूलाल पुलेश्वर शोडमाके

कोयतूर सभ्यता का विकास क्रम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here