Pravin Chandra Bhamj Dev
Pravin Chandra Bhamj Dev

[25 मार्च पुण्यतिथि पर सादर स्मरण]

———–

बस्तर रियासत के अंतिम महाराजा प्रवीर चंद्र भंजदेव का एक महत्वपूर्ण इतिहास रहा है, जो अपने नाम के साथ उपनाम के रूप में “काकतीय” जोड़ते थे। प्रवीर का जन्म 25.06.1929 को शिलॉन्ग में हुआ था। छह वर्षीय प्रवीर को 26 फरवरी, 1936 को औपचारिक राज्याभिषेक किया गया और जुलाई 1947 तक ब्रिटिश सरकार ने उन्हें पूर्ण अधिकार क्षेत्र प्रदान किया। 15.08.1947 को भारत स्वतंत्र हुआ और बस्तर की रियासत को औपचारिक रूप से भारतीय संघ में 01.01.1948 को मिला दिया गया। यह प्रवीर का परिचय नहीं, बल्कि शुरुआत है। यह स्वाभाविक था कि सत्ता गंवाने की पीड़ा और महाराजा से प्रजा बनने के कारण उनकी वृत्तियों से झांकती रही थी और वह एश्वर्य प्रदर्शनों जैसे कार्य करके, लोगों में पैसा बांट कर राजकीय शासन का अहसास किया। हालाँकि, परिपक्वता, बढ़ती उम्र और राजनीति में सफल नहीं होने के बावजूद, वह संघर्ष करते रहे। बाद में वह इस क्षेत्र के आदिम समाज के सच्चे स्वर और प्रतिनिधि के रूप में बन कर उभरे। शुरुआत में प्रवीर की लोकप्रियता और तत्कालीन राजनीति में न उभर पाने के कारण हताशा थे। राजनीतिज्ञ समय-समय पर प्रवीर से बेरहमी से पेस आये। 13 जून, 1953 को उनकी संपत्ति “कोर्ट ऑफ वार्ड्स” के चलते ले ली गई।

प्रवीर ने 1955 में “बस्तर आदिवासी किसान मजदूर सेवा संघ” की स्थापना की। 1956 में, उन्हें पागल घोषित कर दिया गया और राज्य द्वारा इलाज से स्विट्जरलैंड भेज दिया गया, जहाँ आरोप निराधार पाए गए। 1957 में प्रवीर बस्तर जिला कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए। आम चुनावों के बाद, वह एक बड़े वोट से जीतकर विधानसभा भी पहुंचे। 1959 में प्रवीर ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। “मालिक मकबूजा की लूट” आधुनिक बस्तर में सबसे बड़ी भ्रष्टाचारों में से एक है, जिसकी पोल प्रवीर द्वारा सबसे पहले खोला गया और विरोध किया गया । महाराजा प्रवीर ने देश के प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, आंतरिक मंत्री और राज्य के मुख्यमंत्री को कई पत्र लिखकर कार्यवाही की मांग की लेकिन नतीजा नहीं आया।

11 फरवरी, 1961 को, राज्य विरोधी गतिविधियों के आरोप में प्रवीर धनपुंजी को गांव में गिरफ्तार किया गया था। प्रिवेंटिव डिटेंशन एक्ट के तहत उनको गिरफ्तार कर नरसिंहपुर जेल ले जाया गया। बस्तर के पूर्व शासक के रूप में प्रवीर की मान्यता को राष्ट्रपति के आदेश के माध्यम से 12.02.1961 को पूर्णतः समाप्त कर दिया गया था। प्रवीर में प्रशासन की जिद और ज्यादती का नतीजा था 03.31.1961 का लौहंडीगुड़ा गोली कांड, जहां बीस हजार की संख्या में प्रोटेस्टेंट करने वाले कोयतूरो की बेरहमी से हत्या कर दी गई। ‘महाराजा पार्टी’ से उम्मीदवार विजयी था और यह तत्कालीन सरकार के लिए प्रवीर की लोकतांत्रिक प्रतिक्रिया थी। अंत में, 30 जुलाई, 1963 को प्रवीर की संपत्ति “कोर्ट ऑफ वार्ड्स” से मुक्त कर दी गई।

अपने समय में, प्रवीर ने बस्तर क्षेत्र की वास्तविक समस्याओं और बस्तर से संबंधित सभी तत्कालीन सरकारी नीतियों की स्पष्ट दृष्टि बनाए रखी। दंडकारण्य परियोजना जिसके तहत पूर्वी पाकिस्तान के शरणार्थियों को बस्तर में बसने के खिलाफ प्रदर्शन किया। 1964 ई०में प्रवीर ने “पीपुल्स वेलफेयर एसोसिएशन” की स्थापना की। 12 जनवरी, 1965 को प्रवीर ने बस्तर की समस्याओं को मानते हुए दिल्ली के शांतिवन में उपवास किया। आंतरिक मंत्री गुलजारी लाल नंदा ने समस्याओं के समाधान का दावा करने के साथ ही प्रवीर का उपवास तोड़ावाया। 6 नवंबर, 1965 को, कोयतूर महिलाओं ने कलेक्ट्रेट के सामने प्रदर्शन किया, जहां उनके साथ दुर्व्यवहार किया गया था। इसके विरोध में प्रवीर विजय भवन में धरने पर बैठ गए। 16 दिसंबर, 1965 को, जब कमिश्नर वीरभद्र ने उनकी मांगों पर सहमत होने का दावा किया, तब जा कर अनशन टुटा। 8 फरवरी, 1966 को कर की जबरन वसूली के बाद प्रवीर ‘विजय भवन’ में भूख हड़ताल पर चले गए। उन्होंने सरकार से स्पष्ट आश्वासन मिलने के बाद ही अपना अनशन समाप्त किया। 12 मार्च, 1966 को नारायणपुर वासियो को भूख और उपचार की कमी को लेकर प्रवीर ने उपवास किया। प्रवीर की हरकतें व्यवस्था के लिए एक सवालिया निशान थीं, जिसे दबाने के लिए कोयतूर और पूर्व राजा के बीच के बंधन को तोड़ना जरूरी था।

संभवत: ये सभी कारण थे जिनके संदर्भ में 25 मार्च, 1966 को बर्खास्त होने का पहला पत्थर और महाराजा प्रवीर चंद्र भंजदेव की राजनीतिक हत्या हुई थी। प्रति वर्ष की तरह उस दिन, कई गाँव के लोग अपने राजा से ‘माझी खेल’ की मंजूरी लेने के लिए आए थे, महल में एक बड़ी भीड़ थी। चैत और बैसाख महीनों के लिए कोयतूर शिकार करने जाते हैं, इसलिए वहाँ अनुमति लेने की परंपरा रही है। यह भी एक कारण था कि धनुष-वान भीड़ में बड़ी संख्या में दिखाई देते थे, हालांकि वैन(हथियार) युद्ध लड़ाई के लिए नहीं बने थे। पक्षियों को मारने का कार्य करने के लिए अधिकांश वैन थे। वह भीड़ को संभालने के लिए पुलिस मौजूद थी इस बीच, कोयतूरो और पुलिस के बीच झड़प हुई।

एक जूनियर कैदी को जेल ले जाया जा रहा था वहां मौजूद था, जिसने एक सूबेदार सरदार अवतार सिंह को मारा था। तब पुलिस ने सौहार्दपूर्वक महल परिसर को घेर लिया; आंसू गैस छोड़े गए और फिर गोलीबारी शुरू हुई। चूंकि महल परिसर में बड़ी संख्या में कोयतूर थे, धनुष वाना से इस अनावश्यक हमले का विरोध किया गया था। कोयतूर और पुलिस में लंबे समय तक झड़प हुई, तभी पुलिस महल के अंदर घुसने लगी, जिसका विरोध कोयतूरों ने किया। एक ऑन-साइट सहयोगी के अनुसार:- “कई सैनिकों ने प्रतिरोध कम हो जाने के कारण राजा के कमरे में प्रवेश कर लिया । जब राजा सीढ़ियों से नीचे ओर भगे, तो उन पर गोलीया चलने की कई आवाजें सुनीं दी… वह जानता था कि उसके महाराज प्रवीर चंद्र भंजदेव मारे गए हैं।” दोपहर के साढ़े चार बजे, कोयतूर के राजा समाप्त हो गया था। प्रवीर की मौत के साथ, महल की दीवारों के भीतर लड़ाई ने एक हिंसक रूप ले लिया। लगभग रात 11.30 बजे तक लगातार लड़ाई जारी रही और महल से गोलियों की आवाजें भी लगातार आ रही थीं।

इसके बाद 26/03/1966 सुबह ग्यारह बजे जिला कलेक्टर और कई पुलिसकर्मी महल में फिर से प्रवेश करने में सक्षम थे। रात प्रवीर का अंतिम संस्कार किया गया। प्रवीर का आंदोलन कभी भी हिंसक नहीं रहा, लेकिन उनकी राजनीतिक हत्या निश्चित रूप से देश का काला अध्याय है।

==========

साभार: राजीव रंजन प्रसाद सर


आखातीज | कोयतूरों का नववर्ष | कृषि कार्यो की शुरुआत

गोंड़ महाराजा चक्रधर सिंह पोर्ते रायगढ़ रियासत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here